Tujhe Sochta Hoon Hindi Lyric – Jannat 2 | KK | Sayeed Quadri

TUJHE SOCHTA HOON LYRICS IN HINDI
TUJHE SOCHTA HOON LYRICS IN HINDI

Singer KK
Music
Song Writer Sayeed Quadri

TUJHE SOCHTA HOON LYRICS IN HINDI

    
तुझे सोचता हूँ मैं शामों सुबह 
इस से ज्यादा तुझे और चाहूं तो क्या 
तेरे ही ख़यालों में डूबा रहा 
इस से ज्यादा तुझे और चाहूं तो क्या 
बस सारे ग़म में जाना संग हूं तेरे 
हर एक मौसम में जाना संग हूं तेरे 
अब इतने इन्तेहां भी ना ले मेरे 
आ . . . संग हूं तेरे
आ . . .संग हूं तेरे
आ . . . संग हूं तेरे 
मेरी धडकनों में ही तेरी सदा 
इस कदर तू मेरी रूह में बस गया 
तेरी यादों से कब रहा मैं जुदा 
वक़्त से पूछ ले वक़्त मेरा गवाह
बस सारे ग़म में जाना संग हूं तेरे 
हर एक मौसम में जाना संग हूं  तेरे 
अब इतने इन्तेहां भी ना ले मेरे 
आ . . . संग हूं तेरे
आ . . . संग हूं तेरे
आ . . . संग हूं तेरे
तू मेरा ठीकाना मेरा आशियाना 
ढले शाम जब भी मेरे पास आना 
है बाहों में रहना कहीं अब  ना जाना 
हूं महफूज़ इनमे बुरा है ज़माना 
बस सारे ग़म में जाना संग हूं तेरे 
हर एक मौसम में जाना संग हूं  तेरे 
अब इतने इन्तेहां भी ना ले मेरे 
आ . . .संग हूं तेरे
आ . . . संग हूं तेरे
आ . . . संग हूं तेरे

Leave a Comment